शिखा पांड़े जीवन (Cricketer Shikha Pandey wiki )

शिखा पांडे एक भारतीय क्रिकेटर हैं। जो 9 मार्च 2014 को बांग्लादेश टीम के खिलाफ बांग्लादेश का कॉक्स बाजार स्टेडियम में अंतरराष्ट्रीय टी-20 क्रिकेट में डेब्यू की थी। उन्होंने 21 अगस्त 2014 में ही वर्म्सली में इंग्लैण्ड टीम के खिलाफ खेलते हुए वनडे अंतरराष्ट्रीय मैच में डेब्यू की थी और 13 अगस्त 2014 को अंतर्राष्ट्रीय टेस्ट मैच में इंग्लैण्ड के खिलाफ डेब्यू की।  शिखा पांडे दाएं हाथ की मीडियम फास्ट बॉलर है और दाए हाथ से बल्लेबाजी करती है। भारतीय टीम के लिए ऑल राउंडर की भूमिका निभाती है। शिखा इस समय मुख्य गेदबाज के रुप में अपनी जिम्मेदारी निभाती है।

शिखा पांडे जीवन – परिचय (Shikha Pandey Biography )

शिखा पांडे का जन्म 12 मई 1989 में करीमनगर, गोवा में हुई थी, इन्होनें अपनी माध्यमिक शिक्षा भारत के केन्द्रीय बोर्ड से प्राप्त की। उसके बाद गोवा ऑफ इंजीनियरिंग से इलेक्ट्रॉनिक और इलेक्ट्रिकल से इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्ल की । उसके बाद वर्ष 2011 में वह भारतीय वायु सेना में एक एयर यातायात नियंत्रक के रुप में सेलेक्ट हो गई। इनका ऊंचाई 5 फीट 2 इंच (168 सेमी)  है। और इनका वजन लगभग 58 किलोग्राम है।

शिखा पांडे का करियर– (Shikha Pandey Career)

शिखा को बचपन से ही क्रिकेट के प्रति बहुत लगाव था,और वह बताती है की वह 5 साल की उम्र से ही खेलना प्रारम्भ की थी , वह गली क्रिकेट हुआ करता था और लड़को के साथ खेलती थी, और उनका बाल लड़को की तरह ही कट रहता था। और हमारा सेशन खतम हो जाता था तब लड़को को महसुस होता था की एक लड़की हमारे साथ गेम खेल रही थी।

मेनै वह सब लाइन कहते सुनी है की अच्छा लड़कियाँ भी क्रिकेट खेलती है।

मेनै वह सब लाइन कहते सुनी है की अच्छा लड़कियाँ भी क्रिकेट खेलती है।

मुझे जो सपोर्ट मिला हमारे फैमिली से उसी के कारण यहाँ तक पहुँच पायी हुँ।

मेरे पिता जी एक अध्यापक है केन्द्रीय विद्यालय में , उन्होंने कहा था आप अपनी हॉबी (शौक) को पूरी कीजिए। लेकिन आपकी पढ़ाई पीछे नहीं छुटनी चाहिएं। और मुझे ऐसा लगता है कि जो आपकी शिक्षा है वो आपके जिन्दगी भर रहेगी, तो जो आपको करना चाहतै है

प्रोफेशनली क्रिकेट खेलना 18 साल की उम्र में शुरु की,

वह कहती है की 1998 में सचिन का खेल देखकर मैने सोच लिया कि अगर मुझे क्रिकेट खेलना है तो सचिन के जैसा मैं बनुंगी।

मेरा बोर्ड का एग्जाम चल रहे थे फिर भी सुबह 4 बजे उठकर क्रिकेट  देखती थी, क्योंकि  मुझे टेस्ट मैच बहुत पसंद है।

शिखा ने 15 साल की उम्र में, वर्ष 2004में गोवा के लिए खेलने के लिए चुना गया था। यह उनका घरेलू सीजन था। उसके बाद राज्य स्तरीय क्रिकेट खेलना शुरु की, उससमय पूर्व क्रिकेटर व चयनकर्ता सुरेखा भंडारे ने देखा। सुरेखा भंडारे ने शिखा पांडे की प्रतिभा को पहचान लिया। भंडारे नें उन्हें मुंबई भेजने का सलाह दिया।

शिखा पांडे अवार्डस् – (Shikha Pandey Awards)

शिखा पांडं पहली इंटरनेशनल क्रिकेटर रही जो एक मैच में 3 विकेट और एक फिप्टी रन बनाई थी।

वर्ष2017-2018 में दिलीप सरदेसाई स्पोर्ट्स एक्सीलेंस अवार्ड प्राप्तकर्ता बनने वाली पहले क्रिकेटर

शिखा पांडे सोशल मीडिया (Shikha Pandey Social Media)


Posted

in

by

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Exit mobile version